मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
एक आम आदमी ..........जिसकी कोशिश है कि ...इंसान बना जाए

समर्थक

गुरुवार, 21 जून 2012

मंत्री जी ....दलाली बंद करवाइए न



जैसा कि आप सब जानते हैं कि मेरी ये मुहिम एक आदमी की मुहिम है व्यवस्था को , प्रशासन को , मंत्रियों को अधिकारियों को जगाने की , उनका ध्यान आम आदमी की समस्या और मुश्किलों की ओर उनका ध्यान दिलाने की । मैं समय समय पर पत्र लिख कर इन्हें बताने की कोशिश करता हूं कि यहां ध्यान दिया जाना जरूरी है । पत्रों की स्कैन कॉपी भी यहां चस्पा कर दी जाती है ताकि भविष्य के लिए सनद रहे और जाने किस मित्र को ऐसे ही किसी प्रयास के लिए प्रेरित कर सके । आज की चिट्ठी , मुख्यमंत्री दिल्ली सरकार को इसलिए लिखी जा रही ताकि सरकारी दफ़्तरों के मुख्य द्वारों पर कब्जा जमाए और लोगों को ठगते बहलाते फ़ुसलाते दलालों के चंगुल से आम लोगों को मुक्ति दिलाई जा सके ।




सोमवार, 21 मई 2012

मंत्री जी ध्यान दें ......



जैसा कि आप सब जानते हैं , कि एक आम आदमी की लडाई के रूप में मैंने ये मुहिम शुरू की हुई है और इसके तहत मैं , सरकार , प्रशासन , मंत्रियों , विभागों , अधिकारियों , सबको अलग अलग मुद्दों , समस्याओं , सुझावों से संबंधित पत्र लिखता हूं और उन्हें प्रेषित करता हूं । उन पत्रों की स्कैन प्रति यहां दो उद्देश्यों के लिए चस्पा की जाती हैं । पहला तो ये कि सनद रहे कि एक पत्र यहां भी मौजूद है । दूसरा ये कि शायद ऐसी ही कोई चिट्ठी किसी मुझ जैसे आम आदमी को भी ऐसे किसी प्रयास के लिए प्रेरित कर सके क्योंकि एक से दो भले और दो से भले चार ....। आज मंत्री जी का ध्यान खींच रहा हूं , राजधानी दिल्ली में पेय जल के लिए प्याउ और प्रसाधन की घोर कमी की ओर ..हां यही है आज की चिट्ठी





शनिवार, 5 मई 2012

आज की चिट्ठी ......मंत्री जी ध्यान दें



जैसा कि आप जानते हैं कि , ये ब्लॉग उन चिट्ठियों का ई दस्तावेजीकरण है जिन्हें मैं समय समय पर सरकार , उनके प्रतिनिधि , विभिन्न संस्थानों , निकायों , अधिकारियों के नाम लिखता रहता हूं जो कि एक आम नागरिक के रूप में मेरा फ़र्ज़ है । स्थानीय समस्याओं से लेकर नागरिक जीवन के बहुत से मुद्दों पर सलाय और उपाय से लेकर कुछ भी और सब कुछ


आज की चिट्ठी , मुख्यमंत्री दिल्ली सरकार के नाम